इंतज़ार इश्क़ और तुम's image
Love PoetryPoetry2 min read

इंतज़ार इश्क़ और तुम

pinki jhapinki jha August 25, 2021
Share0 Bookmarks 406 Reads2 Likes

तुम हो बस एक ही इस भुवन में ,

हो पास नहीं दूर हो बहुत ,

वो बात अलग है सबसे पास लगते हो ,

बातें हमारी बहुत कुछ कहती है ,

कुछ तुम्हारी, कुछ मेरी ,

पर हैरानी ये है चुपिया भी मौन नहीं ,

मीलों दूर का फासला खलता जरूर है ,

पर रोकता नहीं ख्यालो को मिलने से ,

कोई समझा नहीं मुझे जैसे तुम समझते हो ,

मेरी बातों को कितनी गौर से सुनते हो,

जब लगता है साथ नहीं अपने आलावा किसीका ,

उसी मोड़ पर तुम वहा मिलते हो ,

दो लोगो के बीच इश्क़ नाम की जो चीज़ होती है न ,

हमारे बीच न शायद क्या पका वही है ,

तुम्हे थोड़ा ज्यादा मेरी तरफ से थोड़ी कमी है, 

पर क्या करू इस दुनिया से डरती हूँ ,

हाँ इश्क़ तुमसे जरूर करती हूँ ,

मिलेंगे जब हम तुम्हे सहेज कर पास रखना है ,

सपने देखते है जो साथ होने के उन्हें जीना है ,

वक़्त लगेगा जरूर एक दूजे को ,

एक दूजे से जुड़ा सब साथ लाने में ,

जुटे है अभी खुदको स्वंतंत्र बनाने में ,

पर इस इंतज़ार की भी अपनी खूबसूरती है ,

अगर एक न भी हो सके, 

इस इंतज़ार में बिताये पल ही जिंदगी को पुरे है ,

पर हाँ अंजाम जो भी हो ,

हर किसीके के लिए इश्क़ में पड़ना बेहद जरुरी है,

इस झमेले के बिना कहा जिंदगी की कहानी पूरी है |

- पिंकी झा 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts