ये देह भी अपना है या पराया है's image
Poetry1 min read

ये देह भी अपना है या पराया है

Pinak_ModhaPinak_Modha June 20, 2022
Share0 Bookmarks 9 Reads0 Likes
"दिनभर दफ़्तर से फुर्सत कहाँ, रातों को तेरी यादों का साया है
सोचता रहता हूं मैं हरपल, ये देह भी अपना है या पराया है"

- पिनाक मोढ़ा 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts