बैठे-बैठे's image
Share0 Bookmarks 10 Reads0 Likes

बैठे-बैठे आज यूँही आँखे भर आयी थी 

वज़ह कुछ नहीं थी, तू याद आ रही थी


~ पिनाक मोढ़ा

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts