चेहरे चिपकाने की आदत's image
Zyada Poetry ContestPoetry1 min read

चेहरे चिपकाने की आदत

रोमिलरोमिल December 26, 2021
Share1 Bookmarks 46 Reads0 Likes


ये जो तुम्हारी हर जगह चेहरे चिपकाने की आदत है,

क्या बुत बन के चौक पे पड़े रहने को तबीयत इतनी मचलती है।

हुक्मरान हो या खुदा बनने की चाहत है,

क्या तुम्हारे नाम के साथ साथ सीरत भी बदलती है।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts