मन और प्रेम's image
Share1 Bookmarks 79 Reads0 Likes

यदि मन की ही गति सबसे तीव्र है,

तो मन सदा प्रेम से पीछे कैसे रहा?


- नितिन कुमार हरित #NitinKrHarit

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts