गीत लिख पाया हूं मैं's image
Love PoetryPoetry2 min read

गीत लिख पाया हूं मैं

Nitin Kr HaritNitin Kr Harit June 3, 2022
Share0 Bookmarks 70 Reads0 Likes

ये हृदय कागज किया है, और स्याही की है धड़कन,

तब कहीं जाकर, तुम्हारा गीत लिख पाया हूँ मैं ।

एक तुम्हारे प्रेम में, ना जाने कितने स्वप्न टूटे,

कितने ही रिश्तों पे खुद ही, पांव धर आया हूँ मैं ।।


कितने ही स्वर्णिम क्षणों का, त्याग करके हंसते हंसते,

एक अंतिम पूर्ण क्षण को, संग तुम्हारा चाहता हूँ ।

मैं रहूं या ना रहूं, पर रंग जो फैले धरा पर,

हो वो मेरा रंग थोड़ा, रंग तुम्हारा चाहता हूँ ।।


प्रेम की कविता बनाकर, भावना के छंद लेकर,

प्रिय तुम्हारे द्वार पर, सम्पूर्ण निज लाया हूँ मैं ।

ये हृदय कागज किया है, और स्याही की है धड़कन,

तब कहीं जाकर, तुम्हारा गीत लिख पाया हूँ मैं ।।


तुमको ही वेदी बनाकर, रोज करता हूँ हवन मैं,

रोज अपने जाप में, मैं तुमको ही तो जप रहा हूँ ।

प्रेम की निष्पाप अविरल, जल रही शीतल अनल में,

रोज़ करता होम खुद को, रोज यूं ही तप रहा हूँ ।।


धूम्र बनकर फैलता हूं, इस गुलाबी से गगन में,

बादलों की देह लेकर, हर तरफ छाया हूँ मै ।

ये हृदय कागज किया है, और स्याही की है धड़कन,

तब कहीं जाकर, तुम्हारा गीत लिख पाया हूँ मैं ।।


- नितिन कुमार हरित #nitinkrharit 


#शब्दोंकाघर #lovepoetry #hindipoetry #lovepoem

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts