ये जो खाकी में रात जागता है न's image
Zyada Poetry Contest1 min read

ये जो खाकी में रात जागता है न

nishantwritesnishantwrites June 16, 2020
Share0 Bookmarks 68 Reads0 Likes

ये जो खाकी में रात जागता है न

इसी से है तुम्हारा शरीफ़ बने रहना


@nishantwrites

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts