अछूत's image
Share0 Bookmarks 98 Reads0 Likes

हजारों साल पहले हमने ढूंढा,

कुछ अपने जैसे हाड़-मांस को,

जो लिपटे हुए थे चिथड़ों में,

गंदगी में सने हुए कुछ जिस्मों को ।


सिंहासनों पर बैठे हुए हमने देखा,

उन निकृष्ट जीवों को ,

जिनके गुजरने जाने से,

सभ्यताएं दूषित होती रहीं ।


इनको दिया एक विशेषण "अछूत",

जकड़ दिया अनगिनत बेड़ियों से,

साथ उठने-बैठने से,

एक ही हवा में सांस लेने से ।


फरमान सुनाये गये इन जीवों को,

वीरानों में जाने के लिए,

एक अलग दुनिया बसाने के लिए,

इजाजत दी गई महलों के मैले साफ करने की ।


जब ये गुजरते आस-पास,

नगाड़े बजाये गये ,

ताकि ये औरों को दूषित ना कर सकें,

ये ना बना सकें अपने जैसे औरों को ।


धीरे-धीरे इन जीवों ने अपना लिया,

तिरस्कार से भरा अपनापन,

अपना लिया भीख में मिली सांसें,

ताकि देख सकें हड्डियों को राख होते हुए ।


इनको तोहफों में दिए गये,

सड़ते हुए अनाज और पकवान ,

खैरात में बांट दी गई कुछ गज जमीनें,

जहां ये बोते रहे कंटीली झाड़ियां ।


नतमस्तक रहते हुए हमेशा,

सम्भालते रहते सड़ते हुए शरीर को,

ढकते रहे अपने चिथड़ों से,

अपनी औरतों और बच्चों को।


महलों के विशिष्ठ लोग ,

चढ़ते गये इन जीवों की पीठ पर,

शोहरत-समृद्धी में खोते गये,

बनाते गये महलों को इन जीवों के पसीने से ।


धीरे-धीरे महलों ने ढूंढा अपने पास,

औरतों को जिन्हें रोटियां सेंकनी ना आई,

बेरोजगार लड़कों को ,

जो सोने की मुहरें ना कमा सके ।


औरतों को जो दहेज में ,

सोने की ईंटें ना चुनवा सकीं घरों में,

बुजुर्ग जो चलने के लिए सहारा ढूंढते,

मजदूर जो महलों में पसीना सींचते ।


उन मनुष्यों को जो,

निस्वार्थ प्रेम में बंध गये,

उन मांओं को ,

जिन्होंने सिर्फ लड़कियां जनी।


इन सभी को बताया गया अछूत,

गिराया गया नज़रों से,

दूर किया गया अपने से ,

ताकि ये ना फैला सकें अपनी गंदगी ।


सालों से ढालते चले गये ,

अपने तिरस्कारों को संस्कारों में,

छूपाते गये अपनी खामियों को,

सुनाते गये मनगढ़ंत कहानियों को ।


जिन्होंने दुनिया को अपनी नजरों से देखा,

मानवता के लिए प्रेम का रास्ता चुना,

उनको जकड़ दिया गया काल-कोठरियों में,

सभी को पिलाये गये जहर के प्याले।


धीरे-धीरे हम सींचते गये,

अपने अंदर एक अछूत को ,

जीवीत कर लिया दैत्यों को,

जिसे हमने दूसरों में ढूंढा था।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts