Maksad | मकसद's image
Share0 Bookmarks 124 Reads0 Likes

Ik Muddat se maksad main khoj raha hu

Kya chahta hu zindgi se soch raha hu


Main din bhar hu chalta aur shaam ko dhalta

Main khud hu jo kud par hi bojh raha hu.



इक मुद्दत से मकसद मैं खोज रहा हूँ 

क्या चाहता हु ज़िंदगी से सोच रहा हूँ


मैं दिन भर हूँ चलता और शाम को ढलता 

मैं खुद हु जो खुद पर ही बोझ रहा हूँ || 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts