छठी इंद्रिय's image
Share0 Bookmarks 3 Reads0 Likes

सिक्स सेंस अर्थात छठी इंद्रिय इस नाम से आप तो परिचित ही होंगे छठी इंद्रिय को लेकर समाज दो वर्गों में विभाजित है समाज का एक वर्ग इसे मानता है तो एक वर्ग इसे सिरे से खारिज करता है हमारे अलग-अलग ग्रंथों में इसके अलग-अलग प्रकार बताए गए हैं फिर भी इंद्रिय 14 प्रकार की होती हैं ऐसा कहा जा सकता है जिनमें छठी इंद्रिय प्रमुख हैं आप भी कभी-कभी महसूस करते होंगे कुछ होने वाला है आपका मन बेचैन रहता होगा।
      सब कुछ ठीक-ठाक हो रहा है फिर भी मन बेचैन है ऐसा क्यों और फिर कुछ गलत हो जाता है उसके बाद मन हल्का हो जाता है तो जनाब यही सिक्स सेंस अर्थात छठी इंद्रिय है यह किसी में अधिक तो किसी में कम रहता है मेरे पापा में तो उन्हें कुछ घटना है बहुत पहले ही पता चल जाता था एक बार का वाक्या है
       मेरे घर से 500 मीटर की दूरी पर है बरगदवा चौराहा पड़ता है हमें कुछ भी खरीदना हो तो हमें अक्सर वहां जाना पड़ता था एक बार मैं किसी काम से बरगदवा जा रहा था तभी पापा ने कहा "बचाकर जाना" यह मेरे लिए आश्चर्य की बात थी जिस जगह मै अक्सर जाता था और वह कभी कुछ नहीं कहते थे पर आज बचकर जाने की बात कह रहे हैं पर मुझे देर हो रही थी इसलिए उनके बाद पर ज्यादा ध्यान ना दे कर मैं चला गया और फिर कुछ देर बाद घर वापस आ गया शाम को तकरीबन 6:00 बजे मैं दुबारा बरगदवा चौराहे पर जा रहा था फिर पापा ने बचकर जाने की नसीहत दी मै समझा उन्हे मुझसे प्यार है इसलिए वह मेरी ज्यादा फिक्र कर रहे हैं पिता तो पिता होते है हर पिता अपने बच्चो की फिक्र करता है यही सोच मैं चला गया रात के करीब 8:00 बजे होंगे पापा ने छोटे भाई को मुझे लेकर आने के लिए कहा वैसे मैं रात के 9:00 बजे भी घर अकेले आ जाता था और उस दिन पापा की चिंता मेरे लिए कुछ अधिक थी मैं अपने भाई के साथ साइकिल पर घर आ ही रहा था कि रास्ते में एक कार आया और मेरे पैर पर कार का दोनो पहिया चढ़ा कर चला गया मुझे काफी चोटें आई पर अब मैं उनकी चिंता समझ चुका ।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts