उतना तो गणित नहीं उलझा पाई मुझे ऐ जिंदगी....'s image
Romantic PoetryPoetry1 min read

उतना तो गणित नहीं उलझा पाई मुझे ऐ जिंदगी....

Nageshwar GiriNageshwar Giri December 15, 2021
Share0 Bookmarks 32 Reads0 Likes
उतना तो गणित नहीं उलझा पाई मुझे ऐ जिंदगी,
जितना उसके खुले केश और नशीली आंखों ने उलझाया ।।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts