।। सुविचार ।। #मुक्तामणियाँ 73's image
MotivationalStory1 min read

।। सुविचार ।। #मुक्तामणियाँ 73

Mukta Sharma TripathiMukta Sharma Tripathi March 2, 2022
Share0 Bookmarks 24 Reads0 Likes
रुपये-पैसों की अपनी निजी दुनिया नहीं।
मनुष्य ने उसे अपनी सुविधा के लिए स्थापित किया है। सजीव मनुष्य उसका मालिक होना चाहिए न की दास! 
परन्तु अगर दास है तो फिर धन-दौलत की तरह उसका भी भटकना निश्चित है।

✍मुक्ता शर्मा त्रिपाठी 
हिन्दी अध्यापिका 
श इं ज सिं स मि स्कूल कोटला शर्फ़, बटाला 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts