।। सुविचार ।। #मुक्तामणियाँ 62's image
Nepali PoetryStory1 min read

।। सुविचार ।। #मुक्तामणियाँ 62

Mukta Sharma TripathiMukta Sharma Tripathi February 21, 2022
Share0 Bookmarks 0 Reads1 Likes
समय किसी की नहीं सुनता!
तो आवाज़ देने की बजाय बस जो समय मिल रहा है उसका सदुपयोग कर पलों को समेटते जाएँ।।

✍मुक्ता शर्मा त्रिपाठी 
हिन्दी अध्यापिका 
श इं ज सिं स मि स्कूल कोटला शर्फ़, बटाला 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts