कैसा है आदमी's image
1 min read

कैसा है आदमी

Mukesh BissaMukesh Bissa June 16, 2020
Share0 Bookmarks 24 Reads0 Likes

दूसरों के ऊंचे मकान से जलता है आदमी

 क्यों वक्त से पहले ही ढलता है आदमी


लगी सी रहती है भागदौड़ जिंदगी में

क्यों आज भी नींद मे चलता है आदमी


 ये रुपया पैसा काम नही आएगा हमेशा

 फिर क्यों गठरी ढो रहा है आदमी


मानवता के गुण खो गए है कहीं

दिन वासना के जी रहा हैआदमी


 थोड़ी सी जमीन ही तो चाहिए बाद में

फिर जमीन के वास्ते लड़ रहा हैं आदमी


 अपनेपन की चादर में जीना अच्छा है

 बस एक चिंगारी से सुलगता है आदमी


मिल जाएगी मंजिल इस सफर में राही

 क्यों आगे निकलने की दौड़ में है आदमी

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts