हुकूमत वक़्त की मोहताज है ख़ौफ़ न कर's image
Zyada Poetry ContestPoetry1 min read

हुकूमत वक़्त की मोहताज है ख़ौफ़ न कर

Muhammad Asif AliMuhammad Asif Ali June 12, 2022
Share0 Bookmarks 10 Reads0 Likes

हुकूमत वक़्त की मोहताज है ख़ौफ़ न कर

तेरे सर पे मुहम्मद का हाथ है ख़ौफ़ न कर


आज हाकिम जो ज़ुल्म का कहर ढा रहा है

उसका भी वक़्त करीब आ रहा है ख़ौफ़ न कर


दब जाएगें सब सच्चाई को दबाने वाले

इसके लिए भी तैयार ख़ाक है ख़ौफ़ न कर


तुझको करना होगा सब्र ये इम्तिहान है

वो हर चीज पर कादिर है ख़ौफ़ न कर


आज क़त्ल हुए है कल कातिल भी बताए जाएंगें

तू रख दे सुकूं से सज्दे में सर ख़ौफ़ न कर


न नमरूद जी रहा है न फिरौन बाकी है

कयामत तक रहेंगें हम तू ख़ौफ़ न कर।


~ मुहम्मद आसिफ अली

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts