जुल्फों के घेरे's image
Love PoetryPoetry1 min read

जुल्फों के घेरे

Mohit ParmarMohit Parmar September 16, 2021
Share0 Bookmarks 21 Reads0 Likes

में सब कुछ संभाल सकता हूं ,


बस शर्त ये है की ,


वो अपनी जुल्फें संभाल ले ....



  • मोहित

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts