ग़ज़ल's image
Share0 Bookmarks 32 Reads0 Likes
सूर्य घर को जा रहा है चलते-चलते
उतर आई साँझ देखो ढलते-ढलते

पंछियों की टोलियाँ जाती घरों को
थार की रेती परों पर मलते-मलते

मार खाकर पीठ पर अपने बड़ों की
हो गए बच्चे बड़े यूँ पलते-पलते

झूमता सँकरी गली में आ गया घर
इक शराबी ठोकरों से टलते-टलते

देहरी पर चढ़ गया व्याकुल अँधेरा
दे दिलासा दीप 'मोहन' जलते-जलते

:मोहन पुरी 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts