नारी की भावना's image
Share0 Bookmarks 64 Reads0 Likes

*वो मिले मुझे मेरी कामना से पहले,

दोष क्या नारी जो मिल गया,

मेरी तमन्ना से पहले,

सब कुछ मिल चुका है,

बस साध आखिरी है,

मेरी साध हो न पूरी,

मेरी साधना से पहले,

कोई क्यों ए पूछता है,

तुम हुए क्यों बिकल हो,

मेरे ढल चुके है आंसू,

मेरी वेदना से पहले

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts