ख़त's image

खत लिखने को क्यूं मुझे,

       विवश करता है,

       खत लिखने को मेरे हाथ नहीं उठते,

       खत लिख दू तो किसी को दिखा देगा,

       तेरी याद में लिखने बैठी हूं कब से,

       अंदाज नही मिलते,

        गम लिखूं या खुशी अल्फ़ाज़ नही मिलते।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts