तेरे दिल के अंदर हूं's image
Poetry1 min read

तेरे दिल के अंदर हूं

Manoj Kumar MishraManoj Kumar Mishra May 29, 2022
Share0 Bookmarks 151 Reads1 Likes
न दरिया हूं न साहिल हूं
ना मैं कोई समंदर हूं
तुम मुझ में डूब कर देखो
मैं तेरे दिल के अंदर हूं
*****************
मिला है प्यार जिनको वो  
मोहब्बत के सिकंदर हैं
दिल जिनके भी टूटे हैं
वो मयखानों के अंदर हैं
 **************** 
      मनोज  मिश्र 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts