बंधन's image
Share0 Bookmarks 13 Reads0 Likes
जीवन से श्वास बंधी है
साँसों से जीवन चलता है
एक-दूजे के पूरक हैं ये
संग संग गुजारा होता है 

बंधन से संबंध जुड़े हैं
संबंधों से समाज बनता है
बिन अपनों के जीना भी
सजा सरीखा लगता है ।

     मं शर्मा( रज़ा)

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts