फासले's image
Share0 Bookmarks 12 Reads0 Likes

जब जी चाहा

फासले बढ़ा दिए

जब जी चाहा

फैसले सुना दिए


जीवन में यूँ भी

कुछ कम न थे

बेवजह ग़म

क्यों बढ़ा दिए।


मं शर्मा (रज़ा)

#स्वरचित


No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts