पल's image
Share0 Bookmarks 15 Reads0 Likes

एक ठहरा हुआ पल था

कुछ देर पहले गुज़र गया

एक दबी हुई आस लिए था

उसे जाते जाते तोड़ गया ।


मं शर्मा( रज़ा)

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts