नसीब's image
Share0 Bookmarks 12 Reads0 Likes

रास्ते तो कई मिले मगर

बस एक दरवाजा न हुआ

ख्वाहिश थी समूचा जीने की

नसीब में आधा न हुआ।


मं शर्मा (रज़ा)

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts