मित्र's image
Share0 Bookmarks 16 Reads0 Likes

बीच राह में बिछड़ा जो

बड़ा पुराना साथी था

मुश्किल में काम न आया

वो भी मेरा मित्र था

दुश्मनों से मैं बचा रहा

दगा देने वाला दोस्त था।


मं शर्मा (रज़ा)

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts