करवट's image
Share0 Bookmarks 15 Reads0 Likes

करवट बदल बदल कर रात फिर

नींदों का रास्ता देखती रह गई

उजालों में जिनको चाहा न देखना

अंधेरों में उनके पहलू में बैठे रह गए ।



मं शर्मा( रज़ा)


No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts