दुखदायी's image
Share0 Bookmarks 6 Reads0 Likes

दुख बड़ा दुखदायी है

किसने पार पाई है

दर्द को रोता है क्या

दर्द से होता है क्या


दर्द ही जीवन-सार है

जीने का आधार है

आँख में पानी न ला

पानी ने आग लगाई है।


मं शर्मा (रज़ा)

#स्वरचित

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts