चाँद's image
Share0 Bookmarks 5 Reads0 Likes

साँझ सो गई रात ओढ़कर

जुगनू चमक रहे तारे होकर

फिर आसमां पे रख गया कोई

चाँद सी एक रोटी बेल कर ।


मं शर्मा (रज़ा)

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts