अंजान's image
Share0 Bookmarks 27 Reads0 Likes

दर्द देखता है राह जिसकी

मैं वो अनचाहा मेहमान हूँ

कौन देखे राह मेरी

मैं खुद से भी अंजान हूँ ।


मं शर्मा (रज़ा)

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts