कोख़  ((हैप्पी मदर्स डे))'s image
Poetry1 min read

कोख़ ((हैप्पी मदर्स डे))

mail.sunil3sharmamail.sunil3sharma May 9, 2022
Share0 Bookmarks 72 Reads1 Likes

#उठने के लिए तेरी आवाज़ चाहिए।

 सोने के लिए तेरी डांट चाहिए।।

#रब से पहले तेरा दीदार चाहिए।

 सिर पर छत नहीं तेरा हाथ चाहिए।।

#हाथ से तेरे निवाला चाहिए।

पापा के गुस्से से तेरी आड़ चाहिए।।

#बीमारी मे दवा नहीं तेरी गोद चाहिए।

ठिठुरते शरीर को तेरी शॉल चाहिए।।

#सब दिया बस औऱ एक चीज चाहिए।

माँ.. माँ अगले जन्म मे भी तेरी कोख़ चाहिए।।


       ((हैप्पी मदर्स डे))

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts