आज जाने की ज़िद ना करो's image
Poetry1 min read

आज जाने की ज़िद ना करो

mahimapandey149mahimapandey149 September 28, 2022
Share0 Bookmarks 46 Reads2 Likes

आज जाने की ज़िद ना करो

आओ, बस यूंही साथ बैठो...

नहीं....कोई तकल्लुफ ना हो

बस तुम, तुम जैसे मिलो

कोई इश्क़ मोहब्बत की बात ना हो

कसमों वादों का ज़िक्र भी ना करो

थोड़े तुम्हारे शौक़ हों,

थोड़ी मेरी अटपटी ख्वाहिशें 

मेरे अच्छे बुरे लम्हों का 

एक अजनबी सा मुआयना करो...


जब तुमसे मिलने आऊं

छोड़ सारे जी के जंजाल

बिना किसी दिखावटी लिहाफ के

तो थोड़ी अपनी अल्हड़ हंसी

थोड़ी बेअदबी, थोड़ी नासमझी

थोड़ी बेबाकी और कुछ बचपना

अपने थैले में डाल साथ ले आऊं

बस कुछ यूं ही तुम भी मुझसे मिलने

वक्त को साथ लाया करो

और सुनो....

जो आओ तो जाने की ज़िद ना करो ।।


                      @मhi...❤️

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts