रंग's image
Share0 Bookmarks 30 Reads0 Likes
पता नहीं कवि                                              अपनी कविताओं में                                     सारे रंग कैसे                                               घोलते हैं  --- --                                          मेरे पास तो दो ही रंग हैं                             एक प्यार का रंग 'लाल'                              दूसरा दर्द का रंग 'हरा'//

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts