मेरी दुनिया मेरे घर में's image
Poetry1 min read

मेरी दुनिया मेरे घर में

Laxmi KumariLaxmi Kumari April 3, 2022
Share0 Bookmarks 70 Reads0 Likes
लोग जब भी कहीं घूम के लौटें ,
तो उन्होंने बताया कि कितनी खूबसूरत है दुनिया ..
मैं कहीं गई नहीं फिर भी मुझे अपनी दुनिया बेहद खूबसूरत लगी 
क्यूँकि मेरी दुनिया दो लोग हैं 
माँ पापा
और इनकी आँखों में मैंने जब भी देखने का प्रयत्न किया ,
मुझे दिखा नदी सा धैर्य जो निरंतर बहते रहती पर कभी नहीं थकती 
मेरे दुःख के सामने वे दोनों हमेशा पहाड़ की तरह खड़े रहें ..
मेरी दुनिया मेरे घर में है 
हाँ मेरे घर में 
~ लक्ष्मी ..

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts