मृगतृष्णा !'s image
Poetry1 min read

मृगतृष्णा !

Kuldeep AanjanaKuldeep Aanjana April 8, 2022
Share0 Bookmarks 0 Reads0 Likes
अक्सर कोई 
लौट-लौट 
मुझमें आता है
रौशनी की‌ तरह 
चमचमाता है
मगर वो‌ केवल
रेगिस्तान की रेत में
महज एक मृगतृष्णा है।

~कुलदीप

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts