amber chand aur prem's image
Share1 Bookmarks 30 Reads0 Likes

तुम अंबर में चांद कोई 

मैं जिसमें हो गया विलीन 

मै सितारों का इक पनघट हूं

 तुम मंदाकिनी का दृश्य हसीन 

तुम दिनकर की भोर कोई 

मैं दिनकर का उजाला हूं

तुम सुबह की प्रथम किरण 

मैं दोपहर की ज्वाला हूं


तुम अद्वितीय हजारों में 

मेरे जैसे हजार 

मैं अंधकार का कोना हूं

तुम हो रोशनी अपार 


तुम सुगंधित कुसुम सी हो 

मैं मेघों की घनघोर घटा...

तुम सूख रही धरती सी

मैं सीचाता तुम्हे रहूं सदा

तुम जो बहती नदियां हो 

मैं बादल की बूंद कोई 

तुम पौष की यदि शीतलता

तो मैं फागुन का ग्रीष्म सही

      

      




    








No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts