ख़त's image
Share0 Bookmarks 35 Reads1 Likes

कभी जानिब से उसके भी नहीं आया कोई ख़त तो

जवाब-ए-ख़त सदा हमने दराज़-ए-दिल में ही रक्खा


-किरण के.

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts