ज़िंदगी और भूख's image
Share0 Bookmarks 11 Reads0 Likes

शहर की ज़िन्दगी,

तू मुझे कभी समझ नहीं आई;


आई तो क्यू आई भूख,

तू गरीब के पेट में क्यू आई..!!??

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts