पुस्तक समीक्षा - समाज के पैर's image
Book ReviewArticle3 min read

पुस्तक समीक्षा - समाज के पैर

Kavyam || काव्यम्Kavyam || काव्यम् January 15, 2022
Share0 Bookmarks 209 Reads0 Likes


पुस्तक - समाज के पैर

लेखक - डॉ हिमांशु शर्मा

प्रकाशक - एक्सप्रेस पब्लिशिंग ( नोशन प्रेस )

ISBN - 978-1-63633-200-0

समीक्षक - अनुराग अंकुर


समाज जिस की अनेकों अनेक व्याख्याएं दी जाती हैं, वह उन व्याख्याओं पर कितना खरा उतरता है इसका व्यंग्यात्मक - समीक्षात्मक दृष्टिकोण डॉ शर्मा

अपनी पुस्तक 'समाज के पैर' से रेखांकित करते हैं।

वह लिखते हैं "समाज विसंगतियों का मारा है इन विसंगतियों का यथा समय इलाज ना हो पाने के कारण यह खुद को दिव्यांग समझ बैठा है , तथा यह दिव्यांगता भी शारीरिक नहीं अपितु मानसिक है।"

पहली कहानी "मूर्खता के मायने" में ही व कुरीतियों तथा धार्मिक अंधविश्वासों पर चोट करते हुए चुटिले अंदाज में लिखते हैं - "बेवकूफी की परिभाषा क्या है ऐसी अवांछित हरकत या बात जिसका कोई महत्व नहीं हो।"

कहानी "समाज के पैर" जो कि इस किताब का शीर्षक भी है में वर्ण वेद पर तंज कसा जाता है, वही धर्म शीर्षक से चल रही कहानी में धर्मांधता का घोर विरोध प्रकट होता है।

पूरी शैली व्यंग्यात्मक है और सामाजिक उत्थान ही केंद्र बिंदु है। सहज और सरल भाषा का वैसा ही प्रयोग किया गया है जैसा किचन में प्रेशर कुकर का न जादा जटिल और ना ही झूलनदार। बस इतना कि जितना आप अपने मस्तिष्क में पचा सकें, वह भी बिना ऐसीलाक रूपी गूगल बाबा के।

पुस्तक अमेजन फ्लिपकार्ट नोशनप्रेस सहित राजमंगल पब्लिशर्स के आधिकारिक साइट पर भी उपलब्ध है।


क्यों पढ़ें आप ?


यदि आप समाज के मानसिक, आर्थिक , राजनीतिक और धार्मिक उलझनों में उलझे हुए हैं या फिर उलझाए गए हों और आप हर पहलू की चिलचिलाती धूप में यहां वहां घूमते फिर रहे हों। तो ऐसी स्थिति में डॉ शर्मा की यह पुस्तक आपको अपनी छांव देगी तथा आपके सुलझने का मार्ग भी प्रशस्त करेगी।


कौन हैं डॉ हिमांशु शर्मा ?


डॉ हिमांशु शर्मा पेशे से एक असिस्टेंट प्रोफेसर हैं। पूरे मजेदार, व्यंगात्मक लहजा पर अंदर ही अंदर दुष्यंत कुमार जैसी अंतर्ध्वनि भी रखते हैं।

देश के हर युवा जिसका सपना आईआईटी होता है उसे भी यह अपना बना चुके हैं ।

फिलहाल आई.आई.टी.आर.ए.एम नामक संस्थान में सिविल डिपार्टमेंट में कार्यरत।


Flipkart Link - ( Currently Free Delivery ) -

https://www.flipkart.com/samaj-ke-pair/p/itm92608d65fda10



नोट - यदि आप भी अपनी पुस्तक की समीक्षा चाहते हैं तो नीचे दिए गए मेल पर हमें लिख भेजें।


मेल - kavyamliterature@gmail.com


काव्यम से जुड़ी अपडेट पाने के लिए हमारे सोशल मीडिया हैंडल्स को फॉलो करें।


Twitter -

@Kavyamliterary & @Poetanuragankur


Instagram -

@kavyamliterary & @poetanuragankur

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts