हर वक़्त याद आता रहुगा's image
Poetry2 min read

हर वक़्त याद आता रहुगा

Rahul Nitin GuptaRahul Nitin Gupta May 9, 2022
Share0 Bookmarks 48 Reads0 Likes

तुम्हे हर वक़्त याद आता रहुगा ,है कशम आपको

मैं याद आता रहुगा मैं याद आता रहुगा

मैं हर वक़्त आपके पास याद आता रहुगा

जितनी दूरिया तुम हमसे बनाओगे

तुम दिल के उतने ही पास आओगे

तुम्हे हर वक़्त याद आता रहुगा ,

है जरुरत तुमको ये मेरी हर वक़्त याद आता रहुगा

हर वक़्त याद आता रहुगा

बस दुआ करो मेरी लम्बी उम्र का तुम

है मुझे मालूम मेरे मर जाने से कोई गम न होगा तुम्हे

पर याद रखो तुम तुम्हे हर वक़्त याद आता रहुगा

तुम खुद ही पलट कर देखोगे ज़माने में

तो हर जगह मैं ही याद आता रहुगा

तुम्हे हर वक़्त मैं याद आता रहुगा

तुम्हे है कशम उसकी जिसे तुम चाहो

 चाह कर भी तुम किसी को अपना न बना पाओगे 

तुम्हे हर वक़्त याद आता रहुगा

हां तुम्हे मैं हर वक़्त याद आता रहुगा

तुम्हे मैं हर वक़्त याद आता रहुगा

तुम लाख दूरिया बना लो मुझसे

लेकिन तुम उतने दिल के पास आते रहोगे

मैं तुम्हे हर वक़्त याद आता रहुगा!!

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts