'सबसे खतरनाक होता है' – अवतार सिंह संधू ‘पाश’'s image
3 min read

'सबसे खतरनाक होता है' – अवतार सिंह संधू ‘पाश’

KavishalaKavishala June 16, 2020
Share0 Bookmarks 822 Reads0 Likes

मेहनत की लूट सबसे खतरनाक नहीं होती

पुलिस की मार सबसे खतरनाक नहीं होती

गद्दारी और लोभ की मुट्ठी सबसे खतरनाक नहीं होती

बैठे-बिठाए पकड़े जाना, बुरा तो है

सहमी-सी चुप में जकड़े जाना, बुरा तो है

पर सबसे खतरनाक नहीं होता

कपट के शोर में

सही होते हुए भी दब जाना, बुरा तो है

जुगनुओं की लौ में पढ़ना, बुरा तो है

मुट्ठियां भींचकर बस वक्त निकाल लेना, बुरा तो है

सबसे खतरनाक नहीं होता

सबसे खतरनाक होता है

मुर्दा शांति से भर जाना

तड़प का न होना सब सहन कर जाना

घर से निकलना काम पर

और काम से लौटकर घर जाना

सबसे खतरनाक होता है

हमारे सपनों का मर जाना

सबसे खतरनाक वो घड़ी होती है

आपकी कलाई पर चलती हुई भी जो

आपकी नजर में रुकी होती है

सबसे खतरनाक वो आंख होती है

जो सबकुछ देखती हुई जमी बर्फ होती है

जिसकी नजर दुनिया को मोहब्बत से चूमना भूल जाती है

जो चीजों से उठती अंधेपन की भाप पर ढुलक जाती है

जो रोजमर्रा के क्रम को पीती हुई

एक लक्ष्यहीन दोहराव के उलटफेर में खो जाती है

सबसे खतरनाक वो चांद होता है

जो हर क़त्ल, हर कांड के बाद

वीरान हुए आंगन में चढ़ता है

लेकिन आपकी आंखों में मिर्चों की तरह नहीं गड़ता है

सबसे खतरनाक वो गीत होता है

आपके कानों तक पहुंचने के लिए

जो मरसिए पढ़ता है

आतंकित लोगों के दरवाजों पर

जो गुंडों की तरह अकड़ता है

सबसे खतरनाक वह रात होती है

जो ज़िंदा रूह के आसमानों पर ढलती है

जिसमें सिर्फ उल्लू बोलते और हुआं हुआं करते गीदड़

हमेशा के अंधेरे बंद दरवाजों-चौखटों पर चिपक जाते हैं

सबसे खतरनाक वो दिशा होती है

जिसमें आत्मा का सूरज डूब जाए

और जिसकी मुर्दा धूप का कोई टुकड़ा

आपके जिस्म के पूरब में चुभ जाए

मेहनत की लूट सबसे खतरनाक नहीं होती

पुलिस की मार सबसे खतरनाक नहीं होती

गद्दारी और लोभ की मुट्ठी सबसे खतरनाक नहीं होती!



No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts