हमारी उमरिया होली खेलन की - धरमदास's image
HoliPoetry1 min read

हमारी उमरिया होली खेलन की - धरमदास

KavishalaKavishala March 17, 2022
Share0 Bookmarks 53 Reads0 Likes

हमारी उमरिया होली खेलन की। 

पिय मोसों मिल के बिछुर गया हो॥ 

पिय हमरे हम पिय की पयारी। 

पिय बिच अंतर परि गयो हो॥ 

पिया मिलैं तब जियों मोरी सजनी। 

पिया बिना जियरा निकल गयो हो॥ 

इत गोकुल उत मथुरा नगरी। 

बीच सगर पिय मिलि गयो हो॥ 

धरमदास बिरहिनि पिय पावै। 

चरन कंबल चित गहिं रहो हो॥ 




No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts