साहबजादे इरफान अली खान एक ऐसे अभिनेता...'s image
Article3 min read

साहबजादे इरफान अली खान एक ऐसे अभिनेता...

Kavishala DailyKavishala Daily January 8, 2023
Share0 Bookmarks 70 Reads1 Likes

साहबजादे इरफान अली खान एक ऐसे अभिनेता थे हालांकि आज के समय यह हमारे साथ नहीं है पर आज भी यह लोगों के दिलों में जिंदा है। साहबजादे इरफान अली खान ने फिल्म इंडस्ट्री में एक मुकाम ही नहीं अपनी अच्छी पकड़ भी बनाई थी इन्होंने हिंदी सिनेमा की 30 से भी ज्यादा फिल्मों में अभिनय किया और 2008 में इन्हें फिल्मफेयर सर्वश्रेष्ठ खलनायक पुरस्कार भी प्राप्त हुआ इतना ही नहीं यह हॉलीवुड में भी अपना प्रदर्शन दे चुके हैं, दी अमेजिंग spider-man में भी इन्होंने किरदार निभाया है जिसमें यह ऑस्कॉर्प के लिए काम करते हैं।

इरफान हॉलीवुड में भी एक जाने पहचाने नाम थे। इन्होंने ए माइटी हार्ट, स्लमडॉग मिलेनियर, लाइफ ऑफ पाई और जैसा कि हम जानते हैं कि उन्होंने अमेजिंग spider-man में भी काम किया है इन सभी फिल्मों में काम कर चुके हैं और यही नहीं 2011 में इन्हें भारत सरकार द्वारा पदमा शायरी पद्मा श्री से सम्मानित किया गया था।

60वे राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार 2012 में इरफान खान को फिल्म पान सिंह तोमर मैं अभिनय के लिए श्रेष्ठ अभिनेता पुरस्कार दिया गया था। 2017 में प्रदर्शित हिंदी मीडियम फिल्म के लिए उन्हें फिल्मफेयर सर्वश्रेष्ठ अभिनेता चुना गया। 2020 में प्रदर्शित अंग्रेजी मीडियम उनकी प्रदर्शित अंतिम फिल्म रही।

दुख की बात है कि उनका निधन 29 अप्रैल 2020 को मुंबई के कोकिलाबेन अस्पताल में हो गया जहां वे बृहदांत्र संक्रमण से भर्ती थे।

हम आपको बता दे की इरफ़ान अली खान का जन्म राजस्थान में, एक मुस्लिम परिवार में, सईदा बेगम खान और यासीन अली खान के घर पर हुआ था। उनके माता-पिता टोंक जिले के खजुरिया गाँव से थे और टायर का कारोबार चलाते थे। उनका परिवार टोंक के नवाब परिवार से ताल्लुक रखता था। उन्होंने अपना बचपन टोंक तथा जयपुर में बिताया। जयपुर में उन्होंने स्कूली शिक्षा प्राप्त की तथा कॉलेज से स्नातक की डिग्री प्राप्त की। इरफान और उनके सबसे अच्छे दोस्त सतीश शर्मा क्रिकेट में अच्छे थे तथा बाद में, उन्हें साथ में को सीके नायडू प्रतियोगिता के लिए 23 साल से कम उम्र के खिलाड़ियों हेतु प्रथम श्रेणी क्रिकेट में कदम रखने के लिए चुना गया था। दुर्भाग्य से, धन की अभाव के कारण वे प्रतियोगिता में भाग लेने के लिए नहीं पहुँच सके।

उन्होंने 1984 में नई दिल्ली में राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय (एनएसडी) में अध्ययन करने के लिए छात्रवृत्ति अर्जित की और वहीँ से अभिनय में प्रशिक्षण प्राप्त किया।




No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts