खुदाई इश्क....'s image
Share0 Bookmarks 56 Reads0 Likes
हुक्म-ए-क़िदम से बा-ख़बर आशिक़िय्यत, 
आपकी नज़रों से पढ़ा ए'तिमाद-ए-दिल ने।
फलाह होकर भी आपसे धरकने धरकती हैं, 
पाकीजा दर बदर फिरता हूँ तुम्हारी अगन में ।।

✍️ चिदानंद कौमुदी 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts