न शराफत से न ही किसी अपनो की बगावत से's image
Romantic PoetryPoetry1 min read

न शराफत से न ही किसी अपनो की बगावत से

Kapileshwar singhKapileshwar singh August 30, 2022
Share0 Bookmarks 24 Reads0 Likes

न शराफत से न ही किसी अपनो की बगावत से 

हम मरे तो मरेंगे सिर्फ आप ही की नज़ाकत से।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts