ज़िद पर अड़े रहे अगर तो - कामिनी मोहन।'s image
Poetry1 min read

ज़िद पर अड़े रहे अगर तो - कामिनी मोहन।

Kamini MohanKamini Mohan June 19, 2022
Share0 Bookmarks 20 Reads1 Likes

ज़िद पर अड़े रहे अगर तो,
समाधान कोई नहीं।
कर्तव्य न हो जब तक,
अधिकार की पात्रता भी नहीं।


मन, बुद्धि और अहंकार में,
एकता का रास्ता दिखता नहीं।
मनुजता को जब तक न पहचाने,
मतभेद मिटाने का कोई प्रावधान भी नहीं।


साँसों के आने-जाने पर,
कहीं कोई रोक नहीं।
पर कब तक चलता रहेगा,
उस वक़्त का ए'तिबार भी नही।
-© कामिनी मोहन पाण्डेय
-काव्यस्यात्मा।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts