" यहाँ हर तिनका लेता आकार "
 - कामिनी मोहन।'s image
Poetry1 min read

" यहाँ हर तिनका लेता आकार "  - कामिनी मोहन।

Kamini MohanKamini Mohan May 21, 2022
Share0 Bookmarks 72 Reads1 Likes
" यहाँ हर तिनका लेता आकार "
 -
कामिनी मोहन।

यहाँ हर तिनका लेता आकार
सुख निकेतन का देता संसार।

एक घरौंदा और उसमें
चीं-चीं की आवाज़
उड़ता भय पहन अनंत साज़।

तिनको ने ताकत अंगीकार किया
हवा के बल पर उड़ना अस्वीकार किया।

अरण्य में है कोमल श्रृंगार
हरितमय देह सुकोमल आकार।

वृक्ष-झाड़ की छाँव तले
है तिनको का संसार पले।

उजड़ते-बनते टूटते बिखरते
संघर्ष करते
जीवन को जीवन देते
श्रेय-प्रेय मंगल है करते।
- © कामिनी मोहन पाण्डेय।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts