उद्धरण's image
Share0 Bookmarks 22 Reads1 Likes
दूर से देखे चाहे पास देखें। 
प्रेम ही पदार्थ है, प्रेम ही यथार्थ है। 

- © कामिनी मोहन पाण्डेय।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts