( क़ितआ )
एक-सा मौसम यहाँ कब किसे मिले -कामिनी मोहन।'s image
Poetry1 min read

( क़ितआ ) एक-सा मौसम यहाँ कब किसे मिले -कामिनी मोहन।

Kamini MohanKamini Mohan May 4, 2022
Share0 Bookmarks 44 Reads1 Likes
 ( क़ितआ )
एक-सा मौसम यहाँ कब किसे मिले

एक-सा   मौसम   यहाँ   कब   किसे   मिले
आज के जैसा  कल  यहाँ  कब  किसे  मिले
अखण्ड दीया बग़ैर  रौग़न जल नहीं  सकता
प्यार  न हो  तो कौन यहाँ  कब  किसे  मिले।
- © कामिनी मोहन पाण्डेय।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts