मैंने सोच को बहुत सोचा - कामिनी मोहन।'s image
Poetry1 min read

मैंने सोच को बहुत सोचा - कामिनी मोहन।

Kamini MohanKamini Mohan May 22, 2022
Share0 Bookmarks 34 Reads1 Likes
मैंने सोच को बहुत सोचा
अब नहीं सोचता कि मैं क्या सोच रहा हूँ?
-© कामिनी मोहन पाण्डेय।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts