छोटी चीज़े - कामिनी मोहन।'s image
Poetry1 min read

छोटी चीज़े - कामिनी मोहन।

Kamini MohanKamini Mohan June 19, 2022
Share0 Bookmarks 16 Reads1 Likes
छोटी चीज़े
धीरे-धीरे विकास पाए
और बड़ी बनती जाए।

आदमी के गुण क़दम-क़दम पर
हिम्मत के बीज बोते जाए
असफलताओं की सूरतें
ज़िंदगी को मक़सद देते जाए।

जीत और हार के परिणाम में
ज़िंदगी पीछे मुड़ जाए
या फिर-फिर कोशिश करने को
ज़िंदगी क़दम आगे बढ़ाए।

हिम्मत की हार और हिम्मत की जीत
है ज़िंदगी में सबसे बड़ी चीज़।

छोटी-सी हिम्मत
मेहनत कराए
बड़ी-बड़ी मुसीबतों से
बाहर निकाल ले जाए।
-© कामिनी मोहन पाण्डेय।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts